दूध के टॉप पांच सबस्टिट्यूट

This post is also available in: English

हम में से कई डेयरी दूध का सेवन करते हैं, पर कुछ ऐसे भी हैं जो दूध का स्वाद पसंद नहीं करते या लैक्टोज के प्रति असहिष्णु हैं या फिर वे एक वेगन भोजन का पालन करते हैं। यदि आप बेहतर या समान रूप से दूध स्यानापन्न का विकल्प तलाश रहे हैं, तो यह पोस्ट आपके लिए उपयोगी हैं।

सोया दूध

सोया दूध, एक पौधे का दूध है जो रात भर सूखे सोया बीन्स भिगोकर और पानी के साथ पीसकर प्राप्त किया जाता है। यह दूध का सर्वोत्तम विकल्प है। सोया दूध में कम फैट, शून्य कोलेस्ट्रॉल और आपके नियमित दूध के समान प्रोटीन की मात्रा होती है। यह पोटेशियम का भी एक अच्छा स्रोत है। यह खनिज मांसपेशियों का निर्माण करता है, सामान्य शरीर की वृद्धि को बनाए रखता है, एसिड बेस संतुलन और रक्तचाप को नियंत्रित करने में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है।

 soy Milk

सोया दूध का इस्तेमाल स्मूदीज़, सीरियल और स्वादिष्ट व्यंजनों को पौष्टिक बनाने के लिए किया जाता है।

सोया दूध कई ब्रांडों में उपलब्ध है। यद्यपि सभी में लगभग एक ही सामग्री अधिक या कम मात्रा में शामिल हैं। इसलिए खरीदने से पहले आपको विचार कर लेना चाहिए कि कौन सा सोया दूध आपके लिए बेहतर और सही है। आर्गेनिक सोया बीन्स से तैयार किया गया और विटामिन बी 12 के साथ मिला हुआ सोया दूध सबसे अच्छा है। सोया दूध मशीन का उपयोग करके सोया दूध घर पर भी तैयार किया जा सकता है।

बादाम का दूध

दूध का एक और बढ़िया विकल्प बादाम का दूध है। यह न केवल अपने पोषण के महत्व के लिए बल्कि अपनी अनोखी स्वाद के लिए भी जाना जाता है। ख़ास तौर पर बच्चे इस गहरा पीला रंग के दूध का मीठा स्वाद पसंद करते है। पीसे हुए बादाम से बना, यह दूध कोलेस्ट्रॉल मुक्त और पोषक तत्व जैसे कि कैल्शियम, आयरन, पोटेशियम, विटमिन ई, सेलेनियम, फाइबर और ज़िंक से परिपूर्ण है। ब्रिटेन के खाद्य अनुसंधान संस्थान द्वारा आयोजित खाद्य अध्ययन में पुष्टि की गई है कि बादाम का दूध पेट में लाभकारी बैक्टीरिया की मात्रा को बढ़ाकर पाचन तंत्र को मजबूत करता  है। हालांकि, बादाम के दूध के नकारात्मक पक्ष यह है कि इस में प्रोटीन की मात्रा कम है ।

Almond Milk

बादाम का दूध आमतौर पर सादे, वेनिला या चॉकलेट के स्वादों में उपलब्ध होता है। आप घर में बादाम दूध बना सकते है। इसके लिए बादाम को ८-१२ घंटो के लिए पानी में  भिगोये और फिर पानी और शहद के साथ पीस ले। गूदे को तरल पदार्थ से अलग करे और आपका बादाम का दूध तैयार है। गूदे का उपयोग कहीं और या उसे कच्चे रूप में किया जा सकता है। बादाम का दूध कॉफी, दलिया और अन्य खाद्य पदार्थों का स्वाद बढ़ाता है। यदि आवश्यक हो, तो आप स्वाद के लिए वैनिला या चॉकलेट एसेंस दाल सकते हैं।

चावल से बना दूध

जैसे नाम से पता चलता है, यह चावल से बनता है। यह अधिकतर ब्राउन राइस से प्राप्त होता है, जो सफ़ेद चावल से ज्यादा स्वस्थ है। इसमें कार्बोहाइड्रेट कि मात्रा अधिक होती है और यह कोलेस्ट्रॉल मुक्त है। इसलिए चावल का दूध नियमित दूध से ज्यादा फायदेमंद है। हालांकि, ध्यान रखें कि चावल के दूध में पर्याप्त प्रोटीन और कैल्शियम का अभाव है।

Rice Milk

कई ब्रांड के चावल के दूध उपलब्ध है जो विभिन्न आवश्यक खनिज जैसे आयरन, कैल्शियम, विटामिन बी ३, बी 12 सहित विटामिन से परिपूर्ण हैं। जबकि कुछ ब्रांड, मीठा किया गया चावल का दूध बेचते हैं, कुछ अन्य कार्बोहाइड्रेट को शक्कर में तोड़कर या गन्ने का  सिरप मिलाकर बेचते हैं। आप घर में चावल के दूध को बना सकते है। पानी में भूरे आटे को उबाले और इसमें चावल को मिलाये। फिर मिश्रण को झरनी में डाले, आपका चावल का दूध तैयार हैं।

नारियल का दूध

नारियल का दूध, ताज़े कटे हुए नारियल से प्राप्त होता है। यह डेयरी दूध के लिए एक और विकल्प है। इसका स्वाद  गाय के दूध के समान होता है और यह अच्छा पौष्टिक मूल्य प्रदान करता है। यह विटामिन बी 3 (नियासिन) और अन्य बी-कॉम्प्लेक्स विटामिनका एक समृद्ध स्रोत है । यह, भोजन में मौजूद पोषक तत्वों को चयापचय करते हैं । डेयरी दूध की तुलना में इसमें अधिक आयरन और ताम्बा भी शामिल हैं। यद्यपि यह फैट में तुलनात्मक रूप से अधिक है, पर उसमें अधिकतर सैचुरेटेड फैट है।

coconut-milk

नारियल का दूध हृदय रोगियों के लिए अद्भुत काम कर सकता है। यह इसलिए है क्योंकि यह लौरिक एसिड में समृद्ध है, जिससे दिल स्वस्थ रहता है क्योंकि यह एचडीएल यानि अच्छा कोलेस्ट्रॉल को बढ़ाता है।

यह दूध, बाजार में आसानी से उपलब्ध है, लेकिन आप ताजा नारियल को गर्म पानी में पीसकर और एक छलनी के माध्यम से इस मिश्रण को छानकर नारियल का दूध तैयार कर सकते हैं।

नारियल का दूध विभिन्न प्रकार के दक्षिण-पूर्व एशियाई व्यंजनों में प्रयोग किया जाता है, खासकर भारतीय और थाई व्यंजनों में। यह सूप्स, स्ट्यू, और करी में उपयोग किया जाता है।

हेम्प यानि भांग वाला दूध

हेम्प एक प्रकार का कैनाबिस पौधा है जिससे दूध भी प्राप्त होता हैं। प्रोटीन और फैटी एसिड का एक समृद्ध स्रोत, हेम्प दूध एक महान ऊर्जा बूस्टर पेय है और इसमें मैग्नीशियम, आयरन, कैल्शियम, फास्फोरस, नियासिन, थाइमिन, राइबोफ्लेविन, फाइबर, फाइटोस्टोरोल, बीटा कैरोटीन, पोटेशियम, नियासिन और थियामीन सहित आवश्यक माइक्रोन्यूट्रेंट्स भी शामिल हैं। यह ह्रदय और त्वचा के लिए अच्छा माना जाता है।

हेम्प के बीजो को पानी में भिगोकर और पीसकर हेम्प दूध तैयार किया जाता है। स्वाद को बढ़ाने के लिए, इसमें स्वीटनर्स डाला जाता है। पुड्डिंग्स और स्मूथीज में स्वाद के साथ-साथ पोषण मूल्य बढ़ाने के लिए हेम्प दूध का उपयोग किया जाता है।

अन्य विकल्प

अन्य वैकल्पिक विकल्पों में से कुछ हैं:

पौष्टिक 7-अनाज का दूध जो गेहूं, चावल, जई, बाजरा, जौ, वर्तनी और ट्रिटिकले से प्राप्त किया जाता है

मूंगफली का दूध

सूरजमुखी दूध

आलू का दूध

क्विनोआ दूध

काजू दूध

हेज़लनट दूध

कद्दू के बीज का दूध

जई का दूध

उपरोक्त उल्लिखित प्रत्येक दूध विकल्प कई सूक्ष्म पोषक तत्वों से भरपूर हैं जो हमारे उचित विकास के लिए आवश्यक हैं। इनमें से अधिकांश दूध के विकल्प भारत में सुपरमार्केट और स्पेशलिटी स्टोर्स में उपलब्ध हैं। आप घर पर इन्हें तैयार भी कर सकते हैं।

Add Comment